यौन स्वास्थ्य and सेक्स एजुकेशन हिंदी में – sex education in hindi and sexual health in Hindi

Spread the love

sex education and sexual health in Hindi – सेक्स एजुकेशन का मतलब है कि यौन शिक्षा इसके सभी पहलुओं के बारे में जानकारी इसे ही सेक्स एजुकेशन कहते हैं इसमें सेक्स से जुड़ी भावनाएं जिम्मेदारियां मनुष्य के शरीर की रचनाएं यौन क्रिया प्रजनन था इसके लिए सही उम्र प्रजनन के अधिकार सुरक्षित सेक्स यंत्रण और सेक्स में संयम जैसे विषयों के बारे में यहां पर जानकारी बताई गई है। sexual health in Hindi

यौन स्वास्थ्य and सेक्स एजुकेशन हिंदी में – sex education and sexual health in Hindi

इस तरह की शिक्षा के लिए स्कूल सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रम परिवार द्वारा कई कार्य किए जाते हैं पहले इस विषय को किशोरों को किसी भी तरह की जानकारी नहीं दी जाती थी समाज में विषयों को बात करना गलत माना जाता था लेकिन अभी जमाना बदल गया है थोड़ी बहुत जितनी भी जानकारी दी जाती है वह घर के द्वारा ही दी जाती थी इसको भी शादी से पहले जानकारी दी जाती थी समझ में ही नहीं शाम को बात करना भी गलत माना जाता था पहले इसे बंद कर दिया गया था लेकिन 19वीं शताब्दी में इस तरह की शिक्षा के लिए आंदोलन चलाया गया था इसके बाद ही सेक्स के विषय में पूरी जानकारी युवा और बच्चों को दिए जाने लगी है। sexual health in Hindi

सेक्स एजुकेशन में महिलाओं और पुरुषों की व्यवस्था के बारे में बताया जाता है साथी गर्भावस्था और बचाव के बारे में विस्तार से जानकारी दी जाती है इसे युवाओं को यौन संबंधों में होने वाली जानकारी बीमारियां संक्रमण जैसे एचआईवी एसटीडी आदि रोगों के बारे में जानकारी दी जाती है इन बीमारियों को युवाओं से कैसे बचाया जाए यह भी जानकारी इसमें दी जाती है इसीलिए सेक्स एजुकेशन अगर बच्चे किशोर को स्कूल में दिया जाना बहुत जरूरी है।

sexual health in Hindi
sexual health in Hindi

महिलाओं के यौन स्वास्थ्य के बारे में जानकारी हिंदी में – women sexual health in Hindi

महिलाओं के यौन अंगों की जानकारी हिंदी में

स्तन

धन महिलाओं की छाती का हिस्सा होता है इसमें युक्त उत्तक कहीं तंत्रिका है नसे और निप्पल होते हैं। किशोरावस्था के साथ ही महिलाओं के इस जगह ऊतकों में बढ़ोतरी होती रहती है यह स्तनपान की क्षमता का विकास करते रहते हैं महिलाओं की तुलना में पुरुषों के सीने को तक अधिक विकास नहीं होती इसीलिए पुरुषों की इस जगह को छाती कहा जाता है।

योनि –

योनि महिलाओं के जननांग का वह भी तरह का होता है जो योनि मुख और गर्भाशय से जुड़ा होता है इसी जगह से संभोग किया जाता है मासिक धर्म और बच्चा जन्म के समय की जगह से बाहर आता है।

योनि मुख –

महिला का भाई आनंद को योनि में कहा जाता है इसमें शेर को भी शामिल किया जाता है यह जननांग पर ऑटो की तरह होता है इसे ग्रंथि से जुड़ी होती है यह ग्रंथि योनि को चिकना बनाए रखने का काम करती है।

गर्भाशय – स्थान को गर्भाशय के नाम से जाना जाता है यह एक राष्ट्रपति वह बंद मुट्ठी के आकार का अंग महिलाओं के पेट के निचले हिस्से में होता है गर्भाशय नीचे की ओर से योनि और ऊपर की ओर से फैलोपियन ट्यूब से जुड़ा होता है इस जगह को गर्भाशय कहते हैं यहां पर रंडी का विकास होता है मासिक धर्म के दौरान हर महा गर्भाशय की परत का निर्माण भी यहीं पर होता है।

हाइमन –

यह योनि के अंदर का हिस्सा होता है यह योनि के अंदर ऊतकों की पतली सी झिल्ली होती है । यह झिल्ली महिलाओं के योनि मुख्य मार्ग को सनकारा देती है कई योग या यौन संबंध बनाने से पहले टूट जाती है।

महिलाओं को होने वाली कुछ यौन समस्याएं हिंदी में

सर्वाइकल कैंसर –

गर्भाशय में होने वाला कैंसर सर्वाइकल कैंसर ह्यूमन पेपिलोमा वायरस के कारण होता है यह धीरे-धीरे बढ़ने लगता है यह पेपर टेस्ट कराने के बाद ही पता चलने लगता है ह्यूमन पेपिलोमा वायरस की रोकथाम के लिए दवा लेना काफी हद तक कम किया जा सकता है अगर यह जल्दी पता चले।

ब्रेस्ट कैंसर –

इसमें टयूमर होता है यह ट्यूमर महिलाओं के स्तन में उसको को प्रभावित करने लगता है यह कई तरह से घातक भी होने लगता है लेकिन समय पर खुद ही इसकी जांच कर के प्रथम चरण में ही इसे पहचान कर कम किया जा सकता है और इसका इलाज भी किया जा सकता है महिला और पुरुषों में यह कैंसर हो सकता है लेकिन महिलाओं मैं इसके होने की संभावनाएं ज्यादा होती हैं ऐसा माना जाता है कि हर 8 में से एक महिला को ब्रेस्ट कैंसर होने की संभावना होने लगती है।

महिलाओं के यौन स्वास्थ्य की देखभाल हिंदी में

Douching –

यानी योनि और गुदा खुद होना होता है आपको किसी भारी उत्पादों में से योनि को धोने से पहले डॉक्टर की सलाह लेनी जरूरी होती है यह तरीका यौन संचारित संक्रमण का कारण बन सकता है और यह प्रेग्नेंसी में भी सुरक्षित नहीं होता है।

Male का यौन स्वास्थ्य हिंदी में – men’s sexual health in Hindi – sexual health in Hindi

लिंग –

यह एक पुरुष का प्रजनन अंग होता है इसे लिंग कहते हैं जो तीन मुलायम को तत्वों से मिलकर बनता है यह मुलायम होता कुत्ते जन्म के दौरान रक्त से भर जाते हैं यह तक में अध्ययन कर आते हैं लेने में मूत्र और वीर्य संबंधित तरल पदार्थ निकलता है। sexual health in Hindi

पुरुष जननांग –

में यौन क्रिया के दौरान लिंग में रक्त भर जाता है इससे भी उत्तेजना कहते हैं ना जो इसे जननांग में उत्तेजना आ जाती है और वह सामान्य स्थिति से बड़ा हो जाता है। sexual health in Hindi

स्खलन –

यौन क्रिया के दौरान आनंद पुरुष के लिंग से निकलने वाली वीर्य को यानी उसके प्रक्रिया को कहते हैं।

वीर्य –

यह पुरुष जननांग से निकलने वाला सफेद तरह का पदार्थ होता है इसमें शुक्राणु शामिल होते हैं यह पदार्थ प्रोटेस्ट ग्रंथि से निकलता है जो तेजल के चरम अवस्था पर निकलता है विशेषज्ञों का कहना है कि यह अलग-अलग फूलों में मौजूद शुक्राणुओं की संख्या 20 से 50 करोड़ तक होती है। sexual health in Hindi

यौन क्रियाएं और लैंगिक शिक्षा हिंदी में – sexual act and sexuality in Hindi – sexual health in Hindi

सेक्स क्या है –

जीविका दोनों की अगर बात करें तो व्यक्ति की पहचान जैसे पुरुष और महिला होना सेक्सी सेक्स करते हैं इसके अलावा दो व्यक्ति के बीच होने वाले शारीरिक संबंध हो को भी सेक्स कहा जाता है।

सुरक्षित सेक्स कैसे होता है –

जब आप अपने साथी के साथ शारीरिक संबंध बनाते हैं तो सुरक्षा और बचाव के उपाय अपनाना बहुत जरूरी होता है तो उसे ही सुरक्षित सेक्स कहा जाता है जैसे कि कंडोम का प्रयोग करना महिलाओं की प्रेगनेंसी को रोकने के लिए उपाय ऐसे ही सुरक्षित की श्रेणी में रखा जाने लगता है। sexual health in Hindi

ओरल सेक्स क्या है ?

ओरल सेक्स में मुंह और जीभ के प्रयोग से अपने साथी के लिंग लेना होता है संवेदनशील अंग और चैनल को उत्तेजित किया जाने लगता है और एक सामान्य सेक्स का एक अन्य प्रकार है।

एनल सेक्स क्या है ?

जब पार्टनर के साथ सेक्स होता है तब एक साथी अपने लिंग को दूसरे साथी के पैनल में यानी गुदा में प्रवेश कर सेक्स करता है ऐसे ही एनल सेक्स कहते हैं। sexual health in Hindi

https://hindihealthtips.in/oral-sex-in-hindi-oral-sex-increases-risk-of-throat-cancer/.html

सेक्स लाइफ के फायदे हिंदी में

https://hindihealthtips.in/sex-ke-fayde-aur-nuksan-in-hindi/.html