swasth rahne ke upay – हमेशा स्वस्थ रहने के उपाय

Spread the love

swasth rahne ke upay hind me – दोस्तों स्वस्थ कौन नहीं रहना चाहता. हर आदमी की ये इच्छा होती है की वो शारीरिक और मानसिक रूप से बिलकुल स्वस्थ रहे. पर इस दुनिया में ऐसे लोग भरे पड़े हैं जो की अच्छे  स्वास्थ्य के लिए संघर्ष कर रहे हैं, Swasth Rahne Ke Upay ढूढ़ रहे हैं पर फिर भी वो अपनी मंजिल से दूर ही नज़र आते हैं. swasth rahne ke upay hind me.

हमेशा स्वस्थ रहने के उपाय व घरेलू तरीके | जीवन भर स्वस्थ कैसे रहे – swasth rahne ke upay

एक बात आप अपने दिमाग में सेट कर लीजिये की अगर आपको ज़िन्दगी का लुत्फ़ उठाना है तो आपको अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त करना होगा. स्वस्थ रहने के तरीके ढूँढने होंगे और उन्हें अपने ऊपर लागू करना होगा. हमेशा की तरह आप लोगों की मदद करने का प्रयास करते हुए आज हम आपको बताएँगे की घर पर रहते हुए स्वस्थ कैसे रहे. swasth rahne ke upay hind me.

मानव शरीर एक ऐसी मशीन है जिससे अगर आप बिलकुल मेहनत नहीं करवाओगे तो वो ख़राब हो जाती है. उसमे तरह तरह की गड़बड़ियाँ शुरू हो जाती हैं. और ये तो आप जानते ही हैं की मेहनत तो अब कोई करता ही नहीं है. ऊपर से खान पान ऐसा है जो मज़बूत से मज़बूत शरीर का कबाड़ा करके रख दे. swasth rahne ke upay hind me.

हमें Swasth Rahne Ke Upay खोजने होंगे, हमें कुछ ऐसा करना होगा की हम बीमार ही न पड़ें. सदा स्वस्थ रहें, और किसी भी Doctor के पास जाने की नौबत ना आये. जी हाँ दोस्तों ये बात 100% सत्य है की अगर हम अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव करलें और कुछ छोटे मोटे नियमो का भी पालन करें तो हमारे अस्वस्थ होने के चांसेस 70% तक कम हो सकते हैं.

swasth rahne ke upay
swasth rahne ke upay

हमेशा स्वस्थ रहने के उपाय व घरेलू तरीके | जीवन भर स्वस्थ कैसे रहे – swasth rahne ke upay

* कहीं भी बाहर से घर आने के बाद, किसी बाहरी वस्तु को हाथ लगाने के बाद, खाना बनाने से पहले, खाने से पहले, खाने के बाद और बाथरूम का उपयोग करने के बाद हाथों को अच्छी तरह साबुन से धोएं। यदि आपके घर में कोई छोटा बच्चा है तब तो यह और भी जरूरी हो जाता है। उसे हाथ लगाने से पहले अपने हाथ अच्छे से जरूर धोएं।


* घर में सफाई पर खास ध्यान दें, विशेषकर रसोई तथा शौचालयों पर। पानी को कहीं भी इकट्ठा न होने दें। सिंक, वॉश बेसिन आदि जैसी जगहों पर नियमित रूप से सफाई करें तथा फिनाइल, फ्लोर क्लीनर आदि का उपयोग करती रहें। खाने की किसी भी वस्तु को खुला न छोड़ें। कच्चे और पके हुए खाने को अलग-अलग रखें। खाना पकाने तथा खाने के लिए उपयोग में आने वाले बर्तनों, फ्रिज, ओवन आदि को भी साफ रखें। कभी भी गीले बर्तनों को रैक में नहीं रखें, न ही बिना सूखे डिब्बों आदि के ढक्कन लगाकर रखें।

* ताजी सब्जियों-फलों का प्रयोग करें। उपयोग में आने वाले मसाले, अनाजों तथा अन्य सामग्री का भंडारण भी सही तरीके से करें तथा एक्सपायरी डेट वाली वस्तुओं पर तारीख देखने का ध्यान रखें।

* बहुत ज्यादा तेल, मसालों से बने, बैक्ड तथा गरिष्ठ भोजन का उपयोग न करें। खाने को सही तापमान पर पकाएं और ज्यादा पकाकर सब्जियों आदि के पौष्टिक तत्व नष्ट न करें। साथ ही ओवन का प्रयोग करते समय तापमान का खास ध्यान रखें। भोज्य पदार्थों को हमेशा ढंककर रखें और ताजा भोजन खाएं।


* खाने में सलाद, दही, दूध, दलिया, हरी सब्जियों, साबुत दाल-अनाज आदि का प्रयोग अवश्य करें। कोशिश करें कि आपकी प्लेट में ‘वैरायटी ऑफ फूड’ शामिल हो। खाना पकाने तथा पीने के लिए साफ पानी का उपयोग करें। सब्जियों तथा फलों को अच्छी तरह धोकर प्रयोग में लाएं।

* खाना पकाने के लिए अनसैचुरेटेड वेजिटेबल ऑइल (जैसे सोयाबीन, सनफ्लॉवर, मक्का या ऑलिव ऑइल) के प्रयोग को प्राथमिकता दें। खाने में शकर तथा नमक दोनों की मात्रा का प्रयोग कम से कम करें। जंकफूड, सॉफ्ट ड्रिंक तथा आर्टिफिशियल शकर से बने ज्यूस आदि का उपयोग न करें। कोशिश करें कि रात का खाना आठ बजे तक हो और यह भोजन हल्का-फुल्का हो।


* अपने विश्राम करने या सोने के कमरे को साफ-सुथरा, हवादार और खुला-खुला रखें। चादरें, तकियों के गिलाफ तथा पर्दों को बदलती रहें तथा मैट्रेस या गद्दों को भी समय-समय पर धूप दिखाकर झटकारें।

* मेडिटेशन, योगा या ध्यान का प्रयोग एकाग्रता बढ़ाने तथा तनाव से दूर रहने के लिए करें।

* कोई भी एक व्यायाम रोज जरूर करें। इसके लिए रोजाना कम से कम आधा घंटा दें और व्यायाम के तरीके बदलते रहें, जैसे कभी एयरोबिक्स करें तो कभी सिर्फ तेज चलें। अगर किसी भी चीज के लिए वक्त नहीं निकाल पा रहे तो दफ्तर या घर की सीढ़ियां चढ़ने और तेज चलने का लक्ष्य रखें। कोशिश करें कि दफ्तर में भी आपको बहुत देर तक एक ही पोजीशन में न बैठा रहना पड़े।


* 45 की उम्र के बाद अपना रूटीन चेकअप करवाते रहें और यदि डॉक्टर आपको कोई औषधि देता है तो उसे नियमित लें। प्रकृति के करीब रहने का समय जरूर निकालें। बच्चों के साथ खेलें, अपने पालतू जानवर के साथ दौड़ें और परिवार के साथ हल्के-फुल्के मनोरंजन का भी समय निकालें।

खांसी के घरेलू उपाय हिंदी में

https://hindihealthtips.in/khansi-ke-liye-gharelu-upay-in-hindi/.html

1 thought on “swasth rahne ke upay – हमेशा स्वस्थ रहने के उपाय”

Leave a Comment